American Revolution Notes in Hindi PDF | अमेरिका की क्रांति PDF

American Revolution Notes in Hindi PDF

  • अमेरिका की क्रांति के समय 13 प्रमुख उपनिवेश
  • Noteअमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम के समय इन 13 उपनिवेशों की जनसंख्या 20 लाख थी ( 2 मिलियन)

अमेरिका की क्रांति के कारण [American Revolution Notes in Hindi]

  1. उपनिवेशो का आर्थिक शोषण
  2. बौद्धिक जागृति
  3. सप्तवर्षिय युद्ध (1756-63)
  4. ग्रिनविले की कठोर नीतियाँ
  5. रॉकिंघम घोषणा
  6. टाउनशेंड योजना
  7. बोस्टन हत्याकाण्ड
  8. लॉर्ड नॉर्थ की चाय नीति
  9. बोस्टन टी-पार्टी की घटना
  10.  लॉर्ड नॉर्थ के दमनकारी कदम
  11. प्रथम महाद्वीपीय कांग्रेस सम्मेलन
  12. लेक्सिंगटन की घटना
  13. द्वितीय महाद्वीपीय कांग्रेस सम्मेलन
  14. तृतीय महाद्वीपीय कांग्रेस सम्मेलन

Also Read – Robert Gagne’s Learning Hierarchy In Hindi | गैने का अधिगम सोपानिक सिद्धांत

अमेरिका की क्रांति के समय आर्थिक शोषण :-

American Revolution Notes in Hindi  : इंग्लैण्ड ने अमेरिकी उपनिवेशी उपनिवेशो के आर्थिक शोषण की शुरुआत 1624 वर्जिनिया की तम्बाकू का विदेशी जहाजो से व्यापार को प्रतिबन्धित करने से मानी जाती है। इसके बाद इंग्लैण्ड ने अनेक अधिनियमों के माध्यम से उपनिवेशो का शोषण प्रारम्भ कर दिया। जिनमे प्रमुख है

  1. नेवीगेशन एक्ट
  2. जहाजरानी अधिनियम 1651
  3. नोट: इस अधिनियम के अन्तर्गत अमेरिकी उपनिवेशो के लिए यह अनिवार्य कर दिया कि वे अपना अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार इंग्लैण्ड के जहाजो से ही करेंगें।

B.विदेशी व्यापार कानून (व्यापारिक अधिनियम 1666) – इस अधिनियम के अनुसार जिन वस्तुओं की आवश्यकता इंग्लैण्ड को है। अमेरिकन उपनिवेश उन वस्तुओं का निर्यात केवल इंग्लैण्ड को ही करेंगें।
इस प्रकार की वस्तुओं में मुख्य रूप से चावल, चमड़ा, लौहा, लकड़ी, तम्बाकू व नौसेनिक सामान सम्मिलित थे।

C.औद्योगिक अधिनियम (1689) – (ऊन अधिनियम- 1732/ टोप अधिनियम) ऊन वस्त्र उद्योग पर प्रतिबंध लगा दिया गया। बाद में ऊन की टोपी बनाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया ।
1673 ई. में इंग्लैण्ड की सरकार ने अमेरिकी उपनिवेशो के एक दूसरे से व्यापार को विदेशी व्यापार घोषित कर दिया। 
उपनिवेशो के परस्पर व्यापार को 7 जिससे उनके सामान पर चुंगी कर लगने लग गया।

D.आयरन एकट 1750 →अमेरिका के लौहे उद्योग पर प्रतिबंध लगा दिया गया (लोहे की छडे बनाने पर)

अमेरिका की क्रांति में बौद्धिक जागृति [American Revolution Notes in Hindi]

  • 1636 ई में मेसाच्युसेटस के केम्ब्रिज नगर में हावर्ड कॉलेज की स्थापना हुई थी।
  • 1693 ई. में वर्जिनिया में विलियम मेरी कॉलेज की स्थापना हुई थी।
  • बेजामिन फ्रैंकलिन ने अमेरिकन फिलोसोफिकल सोसायटी नामक एक विचार केन्द्र की स्थापना की थी। गजट नामक समाचार-पत्र का भी प्रकाशन किया था।
  • गजट समाचार पत्र में साँप के 13 टुकड़ो पर 13 उपनिवेशों के नामो के कार्टून के साथ लिखा हुआ था – ” जुड़ जाओ या मर जाओ।’
  • अमेरिका से प्रकाशित प्रथम समाचार-पत्र-‘बोस्टन न्यूज लेटर’ था। इसका सम्पादक – जॉन केम्बेल था। यह 1704 ई. में बोस्टन नगर से शुरू हुआ।
  • एड्रयू ब्रेडफर्ड ने 1719 ई. में अमेरिकन मर्करी “और 1925 ई. में “न्यूयार्क गजट” नामक समाचार पत्रो का प्रकाशन किया था।
  • कॉमनसेस – थॉमस पेन ने 1776 ई. में लिखीं।
  • इस पुस्तक में प्रसिद्ध कथन है- “कोई द्वीप किसी महाद्वीप पर कैसे शासन कर सकता है। 
  • एक अन्य समाचार-पत्र “द अमेरिकन क्राइसिस” का भी प्रकाशन किया था।
  • स्टीफन हॉपकिन्स ने ‘राइट ऑफ द कॉलोनिज”।
  • सेम्युअल एडम्स ने ‘राइट ऑफ कोलोनिसटस’ नामक पुस्तकों की रचना की थी।
  • पैट्रिक हेनरी एक क्रांतिकारी व ओजस्वी वक्ता था। जिसका प्रसिद्ध कथन है ” या तो मुझे स्वतंत्रता दो (स्टाम्प एक्ट के विरोध में कहा था ) या फिर मौत।

सप्तवर्षीय युद्ध (Seven Years’ War)

  • वर्ष – 1756-63
  • इस युद्ध की शुरुआत प्रशा (इग्लैण्ड) व आस्ट्रिया (फ्रांस) से हुई थी जिसमे प्रशा का पक्ष इग्लैण्ड ने व आस्ट्रिया का पक्ष फ्रांस में हुआ था। 
  • यह युद्ध मुख्य रूप से इंग्लैण्ड व फ्रांस के मध्य ही लड़ा गया था। इस युद्ध में इंग्लैण्ड की विजय हुई थी।

ग्रिनविले की कठोर नीतियाँ [American Revolution Notes in Hindi PDF]

  • 1763 ई. में ग्रिनविले इंग्लैण्ड का प्रधानमंत्री बना था। 
  • ग्रिनविले ने अमेरिका की क्रांति के प्रति कठोर नीति अपनाते हुए, पूर्व में बने हुए कानूनो को कठोरता से लागू किया और अनेक प्रकार के नये कर अमेरिकी उपनिवेशो पर लगाए जिनमें 4 कर प्रमुख रूप से लगाए

1.शुगर एकट (5 अप्रैल 1764)

  • 1764 का शुगर एक्ट 1733 ई के मालेसेज एकट का विस्तार था। इस अधिनियम के अनुसार अमेरिका के शराब उद्योग पर प्रतिबंध लगा दिया गया और सिरे / शीरे (शराब के लिए कच्ची चीनी पर टैक्स की मात्रा घटा दी गई। तथा दूसरे देशो से रम के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया गया। अमेरिकी वासियो में इस अधिनियम की अत्यधिक प्रतिक्रिया हुई। 
  • जेम्स पोटिस का कथन हैं ” अमेरिका वासियो ने अपने सम्पूर्ण जीवन में इतना सोच विचार नहीं किया जितना इस अधिनियम के पारित होने के 6 माह के भीतर किया।”
  • नोट :- अत्यधिक दबाव के कारण 1766 ई. में इस कर को हटा लिया गया था।

2. स्टाम्प एक्ट  (22 मार्च 1765) – यह प्रथम प्रत्यक्ष कर था। इंग्लैण्ड द्वारा अमेरिका में इस अधिनियम के अनुसार सभी प्रकार के सरकारी व गैरसरकारी करारनामो, लाइसेसो, समाचार-पत्रों आदि पर 2 पैस से लेकर 6 पौण्ड तक का ब्रिटिश स्टाम्प लगाना अनिवार्य कर दिया गया।(Imp)

  • अमेरिका वासियो ने इस एक्ट का तीव्र विरोध किया व नारा बुलन्द किया “प्रतिनिधित्व नही तो कर नही” – जेम्स ओटिस
  • इस अधिनियम के विरोध में अमेरिका वासियो ने स्वाधीनता के पुत्रस्वाधीनता की पुत्रियों” नामक क्रांतिकारी संगठनों की स्थापना की थी।
  • नोट:- 18 मार्च 1766 को स्टाम्प एकट को हटा लिया गया।
  • स्टाम्प एक्ट के विरोध में न्यूयार्क में “9 उपनिवेशो’ ने स्टाम्प एक्ट कांग्रेस का गठन किया था। (1765)

3.करेन्सी एकट (सितम्बर 1764)

  • इस अधिनियम के अन्तर्गत अमेरिकी उपनिवेशो की हुण्डी और कागजी मुद्रा पर प्रतिबंध लगा दिया गया। केवल ब्रिटिश मुद्रा को ही मान्य घोषित कर दिया गया।

4.क्वाटरिंग एक्ट (15 मई 1765) 

  • इस एक्ट के अनुसार ब्रिटिश सेना के रहने की व्यवस्था का सम्पूर्ण खर्चा उपनिवेश ही वहन करेगें | 1767 ई. में इस अधिनियम के उल्लघन के कारण न्यूयार्क असेम्बली को भंग कर दिया गया था।
  • ग्रिनविले की इन नीतियो पर टिप्पणी करते हुए ट्रेवेलियन ने कहा है → “ग्रिनविले ने अमेरिका को खो दिया, क्योंकि उसने अमेरिका से आने वाली डाक को पढना शुरु कर दिया।”

अमेरिका की क्रांति से पहले रॉकिंघम घोषणा

  • 1765 ई. में ग्रिनविले सरकार का पतन हो गया और रॉकिंघम के नेतृत्व में नई सरकार बनी उपनिवेशों के अत्यधिक दबाव को देखते हुए रॉकिंघम ने 1766 में स्टाम्प एक्ट व शुगर एक्ट को तो निरस्त कर दिया। लेकिन उसके साथ ही ब्रिटिश संसद में घोषणा कि ब्रिटिश संसद को अमेरिकी उपनिवेशो पर कर लगाने का पूरा-पूरा अधिकार है।
  • 1766 ई. में ही रॉकिंघम को त्याग पत्र देना पड़ा। नई सरकार बनी। उसके स्थान पर विलियम पिट के नेतृत्व में सरकार बनी।
  • Note: इंग्लैण्ड में यह पहला अवसर था जब अमेरिकी उपनिवेशो के कारण किसी सरकार का पतन हुआ।

टाउनशेंड योजना

  • विलियम पिट की सरकार में टाउनशैण्ड वितमंत्री था।
  • टाउनशैण्ड के अनुसार अमेरिका की क्रांति केवल आन्तरिक करो का ही विरोध करते हैं। बाहय कर उन्हे स्वीकार्य है।
  • अतः टाउनशैण्ड ने 1767 ई. में पाँच उन वस्तुओं पर कर लगा दिया जिनका आयात उपनिवेश इंग्लैण्ड से करते थे।
  • यह 5 वस्तुएँ निम्न थी :- चाय, शीशा, रंग, कागज, सिक्का, धातु आदि।
  • टाउनशैण्ड योजना के विरोध में पैनसिलविनिया के जॉन डिकेसन ने एक पत्र श्रृंखला “पैनसिल विनिया के “एक किसान के पत्र” शीर्षक से प्रकाशित की थी।

बोस्टन हत्याकाण्ड (1770)

  • टाउनशैण्ड योजना के विरोध में मेसाच्यूसेट्स उपनिवेश के बोस्टन नगर में स्थिति अत्यन्त तनावपूर्ण थी।
  • 5 मार्च 1770 को अंग्रेज सैनिको ने आंदोलनकारियो पर अपने बचाव के लिए गोलियां चलाई जिसमें 5 अमेरिकन नागरिक मारे गये (3 सैनिक मारे गये)
  • अमेरिका वासियो ने इस घटना को बोस्टन हत्याकाण्ड के रूप में प्रचारित किया
  • नोट:- 1770 मे ही टाउनशैण्ड योजना के अतंर्गत लगाये गये करो को हटा लिया गया।

लॉर्ड नॉर्थ की चाय नीति :

  • विलियम पिट के बाद लॉर्ड नॉर्थ प्रधानमंत्री बने। 
  • नॉर्थ ने 1770 में ही टाउन शैण्ड योजना के करो को तो हटा लिया लेकिन चाय पर सांकेतिक रूप से कर लगाया रखा और चाप का एकाधिकार ईस्ट इण्डिया कम्पनी को दे दिया । 
  • अमेरिका वासियो में इस सांकेतिक कर और चाय के एकाधिकार के विरोध में तीव्र प्रतिक्रिया हुई।

बोस्टन टी-पार्टी की घटना (16 दिस. 1773 – 16 दिसम्बर 1773 ई.) 

  • अमेरिका की क्रांति के समय अमेरिकन क्रांतिकारियो ने सेम्पूअल एडम्स के नेतृत्व में कुलियों का वेश बनाकर बोस्टन बन्दरगाह पर खडे ईस्ट इण्डिया के जहाज से 340 चाय की पेटियों को समुंद्र में फेंक दिया। 
  • इस घटना को बोस्टन-टी-पार्टी (Boston tea-party incident) की घटना के नाम से जाना जाता है।

लॉर्ड नॉर्थ के दमनकारी कदम : 

  • जब तक चाय का हर्जाना वसूल ना हो तब तक बोस्टन बदरगाह बन्द रहेगा। 
  • मेसाच्यूसेट्स (बोस्टन) की असेम्बली को भंग कर दिया गया।
  • बोस्टन के नागरिको के घरों की तलाशी का अधिकार सैनिको को दे दिया गया।

प्रथम महाद्वीपीय कांग्रेस सम्मेलन

  • 5 सितम्बर 1774 से 22 अक्टूम्बर 1774 तक फिलाडेल्फिया में (पैनसिलविनिया) में प्रथम महाद्वीपीय
  • कांग्रेस सम्मेलन का आयोजन हुआ। जिसमे जोर्जिया को छोड़कर शेष 12 उपनिवेशो के कुल 56 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था।

जिनमे प्रमुख थे :- 

  1. मेसाच्यूसेट्स के जॉन एडम्स व सैम्युअल (द्वितीय राष्ट्रपति) 
  2. वर्जिनिया के वाशिंगटन और पेंट्रिक हेनरी एडम्स 
  3. पैनसिलविनिया के जॉन डिकेंसन 
  4. रोड़ आइलैण्ड के स्टीफन हॉपकिन्स
  • इस सम्मेलन में केवल आन्तरिक स्वतंत्रता की मांग की गई और 1764-65 के बाद उपनिवेशो के लिए जो कानून बनाये गये उनको निरस्त करने की मांग की गई। 
  • इंग्लैण्ड के साथ व्यापार का बहिष्कार किया गया।

लेक्सिंगटन की घटना (19 अप्रेल 1715) 

  • 19 अप्रेल 1775 ई. में लेक्सिंगटन और कॉनकार्ड नामक स्थान पर अमेरिकन क्रांतिकारियो व ब्रिटिश सेनाओ के मध्य झड़प हुई, जिसमे 8 अमेरिकी सैनिक (स्वयं सेवक) मारे गये उस समय ब्रिटिश सेना का नेतृत्व जनरल गेज कर रहे थे। 
  • आंदोलनकारियो का नेतृत्व सेम्युअल एडम्स कर रहे थे। –
  • 19 अप्रेल 1775 ई. की लेक्सिंगटन घटना से ही अमेरिकी क्रांति का प्रारम्भ माना जाता है। इस अवसर पर सेम्युअल एडम्स ने कहा था →”देखो कितना सुंदर प्रभात है। “
  • लेक्सिंगटन की घटना पर टिप्पणी करते हुए इमरसन ने लिखा है ” लेक्सिंगटन में दागी गई गोली की आवाज पूरे विश्व को सुनाई दी थी।”

द्वितीय महाद्वीपीय कांग्रेस सम्मेलन 

  • 10 मई 1775, फिलाडेल्फिया
  • इसकी अध्यक्षता – जॉन हेनकॉक व्यापारी ने की थी ।
  • इस सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया की अंग्रेजो की सेना से संघर्ष के लिए उपनिवेशो की सेना का भी गठन किया जायेगा।
  • परिणामत: जॉर्ज वाशिंगटन के नेतृत्व में क्रांतिकारियो की एक सेना का गठन किया गया।
  • 23 अगस्त 1715 ई. को इंग्लैण्ड ने 13 उपनिवेशो को विद्रोही घोषित कर दिया और उनके विरुद्ध सैन्य कार्यवाही करने की घोषणा कर दी।

तृतीय महाद्वीपीय कांग्रेस : 

  • तृतीय महाद्वीपीय कांग्रेस का आयोजन जून 1776 ई. को फिलाडेल्फिया में हुआ। 
  • इस सम्मेलन को  द्वितीय  महाद्वीपीय कांग्रेस का एक भाग माना जाता है। यद्यपि यह सम्मेलन प्रारम्भ मे फिलाडेल्फिया में हुआ। लेकिन बाद में ब्रिटिश सेनाओ के दबाव के कारण इसका स्थान बदलकर “बाल्टीमार” कर दिया गया
  • इस सम्मेलन के दौरान फिलाडेल्फियाँ में ही 2 जुलाई 1776 को रिचर्ड हेनरी ली ने उपनिवेशो की स्वतंत्रता का प्रस्ताव प्रस्तुत किया। जिसका अनुमोदन “जॉन एडम्स” ने किया।
  • न्यूयार्क को छोड़कर शेष सभी 12 उपनिवेशों के प्रतिनिधियों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया पारित हो गया।
  • अत: 2 जुलाई को ही यह पुस्ताप स्वतंत्रता के इस प्रस्ताव के क्रियान्वयन के लिए थॉमस जेफरसन की अध्यक्षता में 5 सदस्य समिति का गठन किया गया, जिसके 5 सदस्य थे:
    1. थॉमस जेफरसन (अध्यक्ष) 
    2. बेंजामिन फ्रैंकलिन
    3. जॉन एडम्स
    4. रॉबर्ट लिविंगस्टोन
    5. रोजर सर्मन
  • 4 जुलाई 1776 ई. को थामस जेफरसन ने फिलाडेल्फिया के इस सम्मेलन में अमेरिका की स्वतंत्रता की घोषणा की गई।
  • इस घोषणा के बाद कहा गया ईश्वर ने सब मनुष्य को समान बनाया है। और उन्हें कुछ ऐसे अधिकार दिये है। जिन्हें उनसे कोई नही छिन सकता। इन अधिकारों में है, जीवन, स्वतंत्रता और सुख के लिए प्रयत्न ।
  • स्वतंत्रता की इस घोषणा का प्रारूप जॉन लॉक की पुस्तक “सैकिण्ड ट्रीटाइज ऑन गवर्नमेंट से लिया गया है।
  • वर्तमान में अमेरिका में 4 जुलाई को ही स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।
  • अमेरिका की स्वतंत्रता का प्रस्ताव 2 जुलाई 1776 को प्रस्तुत किया गया था, लेकिन स्वतंत्रता की घोषणा 4 जुलाई 1776 को की गई। 

अमेरिका की क्रांति या स्वतंत्रता संग्राम के महत्वपूर्ण युद्ध (american revolution battles )

बकर हिल युद्ध ( जून 1775)
  • इस युद्ध में इंग्लैण्ड सेनापति विलियम हो ने जॉर्ज वाशिगंटन को पराजित किया था।
ब्राण्डी वाइन युद्ध (1775)
  • इस युद्ध में इंग्लैण्ड सेनापति विलियम हो ने जॉर्ज वाशिंगटन को पराजित किया था। ब्राण्डीवाइन (मैनसिल विनिया) का शहर है।

साराटोगा युद्ध (19 सितम्बर से 17 अक्टूबर 1777)

  • इस युद्ध में जॉर्ज वाशिगंटन ने अंग्रेज सेनापति बुर्गेयान को पराजित किया था।
  • इंग्लैण्ड की इस हार में फ्रांस, स्पेन (नीदरलैण्ड), हॉलैण्ड ने अमेरिका का सहयोग किया 
  • फ्रांस, इंग्लैण्ड से सप्तवर्षीय युद्ध का बदला लेना चाहता था।
  • स्पेन, इंग्लैण्ड से जिब्राल्टर का प्रदेश पुनः प्राप्त करना चाहता था।
  • हॉलैण्ड, दक्षिण-पूर्वी एशियाई मसाला व्यापार पर अपना प्रभुत्व जमाना चाहता था।
  • अमेरिकी उपनिवेशो ने फ्रांस का सहयोग लेने के लिए 1715 ई. में साइनस डीन को 1777 में बेजामिन फ्रैंकलिन का फ्रांस भेजा था।
  • 1778 में फ्रैंकलिन और फ्रांस की सरकार के मध्य एक समझौता हुआ। उसी समझौते के तहत फांस अमेरिका स्वतंत्रता संग्राम में सम्मिलित हुआ था।
चार्ल्सटाउन युद्ध (1780)
  • यह युद्ध दक्षिणी केरोलिना के चार्ल्सटाउन नामक स्थान पर लड़ा गया। यह एकमात्र युद्ध था जो दक्षिणी राज्यो में लड़ा गया था।
  • इस युद्ध में अंग्रेजो की विजय हुई,
  • अंग्रेज सेना का नेतृत्व – हेनरी क्लिटन ने किया
  • इसमें अमेरिकी सेनापति बेनेडिक्ट अर्नोल्ड ने विरुद्ध विद्रोह किया था। क्योकि साराटोगा युद्ध में उसका पैर कटने के कारण उसे सेना से निकाल दिया।
  • बेनेडिक्ट अर्नोल्ड की साराटोगा विजय में उसकी महत्वपूर्ण भूमिका थी।

यार्कटाउन युद्ध (19 अक्टूबर 1781)

  • इस युद्ध में जॉर्ज वाशिगंटन ने फ्रांसिसि सेनानायक लफायते के सहयोग से ब्रिटिश सेनानायक कार्नवालिस को निर्णायक रूप से पराजित किया। 
  • कार्नवालिस को बाद में भारत के गवर्नर जनरल बनाया गया।
  • जब इस युद्ध में पराजय की सूचना इंग्लैण्ड के प्रधानमंत्री लॉर्ड नॉर्थ को मिली तब उसने कहा “हे ! ईश्वर सबकुछ नष्ट हो गया “

पेरिस की संधि (3 सितम्बर 1783)

  • इस संधि के माध्यम से अमेरिका के 13 उपनिवेशो को वैधानिक स्वतंत्रता मिली।
  • इस संधि में इंग्लैण्ड का प्रतिनिधित्व “रिचर्ड ऑसवाल्ड  
  • अमेरिका का प्रतिनिधित्व ‘बेन्जामिन फ्रैंकलिन ने किया था।

यहाँ से पूरी पीडीएफ डाउनलोड करेंअमेरिका की क्रांति PDF 

1 thought on “American Revolution Notes in Hindi PDF | अमेरिका की क्रांति PDF”

Leave a Comment